1 April, 2021 Utkal Day (Odisha Foundation Day)

1 अप्रैल, 2021 उत्कल दिवस (ओडिशा स्थापना दिवस)  

भारत के पूर्वी तट पर स्थित राज्य ओडिशा,जिसे पहले उड़ीसा के नाम से जाना जाता था, को 1 अप्रैल, 1936 में संयुक्त बंगाल-बिहार-उड़ीसा प्रांत से भाषाई आधार पर अलग होकर एक पृथक राज्य के रूप में पहचान प्राप्त हुई थी। इसी अवसर की ख़ुशी में समूचे ओडिशा राज्य में प्रत्येक वर्ष 1 अप्रैल को “उत्कल दिवस या ओडिशा दिवस” मनाया जाता है।

वर्ष 2011 में उड़ीसा का नाम बदलकर ओडिशा कर दिया गया था जो कि ओड़िया भाषा का शब्द है। 30 जिलों वाले इस राज्य की राजभाषा ‘ओड़िया’ है। 

ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर है, जो इसका सबसे बड़ा शहर भी है।

लगभग 4,19,74,218 की जनसंख्या वाले ओडिशा राज्य का क्षेत्रफल करीब 155,707 किमी² है तथा जनसंख्या घनत्व 270 किमी² है।
क्षेत्रफल की दृष्टि से ओडिशा भारत का नौवां तथा जनसंख्या के हिसाब से ग्यारहवां सबसे बड़ा राज्य है।

पर्यटन की दृष्टी से :   

अक्सर तीव्र चक्रवातों को झेलने वाले ओडिशा राज्य में पुरी, कोणार्क और भुवनेश्वर (पूर्वी भारत का सुनहरा त्रिकोण) जैसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल भी हैं। पुरी के जगन्नाथ मंदिर की रथयात्रा जहाँ विश्व प्रसिद्ध है वहीं कोणार्क के सूर्य मंदिर को देखने प्रतिवर्ष लाखों पर्यटक आते हैं। 

ब्रह्मपुर के पास जौगदा में स्थित अशोक का प्रसिद्ध शिलालेख और कटक का बारबाटी किला भारत के पुरातात्विक इतिहास में महत्वपूर्ण हैं।

ओडिशा के संबलपुर के पास स्थित हीराकुंड या हीराकुद बाँध विश्व के विशालतम व सबसे लम्बे बाँधों में से एक है। 

अंतर्राज्यीय सीमाएँ : 

ओडिशा उत्तर में झारखंड, उत्तर पूर्व में पश्चिम बंगाल, दक्षिण में आंध्र प्रदेश और पश्चिम में छत्तीसगढ़ से अपनी सीमा साझा करता है तथा इसकी पूर्व दिशा में बंगाल की खाड़ी है।